बदलाव



बदल रहा है मौसम, बदल रहा है नजारा, 

बदल रहा है, जीवन का सार सारा, 

बदल रही है मेरी कहानी,

बदल रही है मेरी मनमानी। 

बदलावो का आया ऐसा तूफान, बदल जायेगा मेरा संसार। 

बदलावो कि यह ऐसी कहानी लगती सभी बेटियों को अपनी सी कहानी। 

बदल दे आँगन बदल दे पुरा घरबार, 

क्यु बनाया बेटी का ऐसा संसार? 


बदल रहा है मौसम बदल रहा है नजारा, 

न जाने क्या होगा आगे का नजारा, 

आएगी खुशियाँ या ढूँढ लेगा दुःख हमारा गलियारा। 

रह-रह के सवाल आता, घर से दुर जाने का खयाल भी हमे डराता। 

मौसम ने की ऐसी मनमानी, बदलती सी लग रही है जीवन कि कहानी। 

बेटी हो जाएगी बेगानी, ऐसी क्यु कि समाज ने अपनी मनमानी? 

                            

                            (Khushboo soni) 


Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

सपनों की उडान

उड़ान